Nafrat shayari in hindi | संग्रह कुछ नफरत शायरिओ का | hate shayari

i hate you in hindi shayari

ajeeb see aadat aur,
gazab kee phitarat hai meree
mohabbat ho ki napharat ho,
bahut shiddat se karata hoon.
अजीब सी आदत और,
गज़ब की फितरत है मेरी,
मोहब्बत हो कि नफरत हो,
बहुत शिद्दत से करता हूँ।

nafrat shayri image


hate shayari hindi 

O Teri Nafrat Ne Ye Kya,
Sila Diya Mujhe,
Zehar Gam-E-Judai Ka,
Pila Diya Mujhe.
ओ तेरी नफ़रत ने ये क्या,
सिला दिया मुझे,
ज़ेहर गम-इ-जुदाई का,
पिला दिया मुझे।

pyaar karata hoon,
to fikr karata hoon,
agar napharat karane laga,
to zikr bhee nahin karoonga.
प्यार करता हूँ,
तो फ़िक्र करता हूँ,
अगर नफरत करने लगा,
तो ज़िक्र भी नहीं करूंगा।

hate status image


mohabbat se nafrat

koee to vajah hogee,
bevajah koee napharat nahin karata,
ham to unake dil kee samajhate haI,
vo hamen samajhane kee koshish nahin karata.
कोई तो वजह होगी,
बेवजह कोई नफरत नहीं करता,
हम तो उनके दिल की समझते है,
वो हमें समझने की कोशिश नहीं करता।

haq se de to teree,
“napharat ” bhee sar aankhon par,
khairaat mein to teree,
” mohabbat ” bhee manjoor nahin !
हक़ से दे तो तेरी,
“नफरत ” भी सर आँखों पर,
खैरात में तो तेरी
” मोहब्बत ” भी मंजूर नहीं !

hate status image


nafrat shayari

hamen barbaad karana hai,
to hama se pyaar karo,
napharat karoge tee khud barbaad ho jaoge.
हमें बर्बाद करना है,
तो हम से प्यार करो,
नफरत करोगे तो,
खुद बर्बाद हो जाओगे ।

jo log mujhase napharat karate hai shauk se kare,
main bhee har shakhs ko apanee mohabbat,
ke kaabil nahin samajhata.
जो लोग मुझसे नफरत करते है शौक से करे,
मैं भी हर शख्स को अपनी मोहब्बत,
के काबिल नहीं समझता।

hate shayari image


2 line nafrat shayari

tumase meree napharat kaise sambhelagee,
jab tum mera diya huaa,
pyaar nahee sambhaal paayee.
तुमसे मेरी नफरत कैसे संभेलगी,
जब तुम मेरा दिया हआ,
प्यार नही संभाल पायी।

vo jo hamase napharat karate hain ham,
to aaj bhee sirph un par marate hain.
वो जो हमसे नफरत करते हैं,
हम तो आज भी सिर्फ उन पर मरते हैं।

mohabbat se nafrat shayari image


napharat hai mujhe un be vaphao kee mahafil se,
jaha ishk kee baat pe katl hazaar karate hain.
नफरत है मुझे उन बे वफाओ की महफ़िल से,
जहा इश्क की बात पे कत्ल हज़ार करते हैं।

Pages: 1 2 3

2 thoughts on “Nafrat shayari in hindi | संग्रह कुछ नफरत शायरिओ का | hate shayari

  • 13/07/2020 at 11:14 pm
    Permalink

    bahut hi kubhsurat article Hai.

    Reply
  • 24/08/2020 at 10:50 pm
    Permalink

    जीसके नसीब में हो जालिम दुनिया की ठोकरें,
    उस बदनसीब बंदे से सहारे कि बात न करना।

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *