yaad shayari attitude image
Miss you

Yaad Shayari| संग्रह कुछ याद शायरियों का | Shayari on Yaad

romantic shayari on yaad

jid mein aakar… unase,
taalluk… tod liya hamane,
ab sukoon unako nahin,
aur bekaraar … ham bhee hain.
जिद में आकर… उनसे,
ताल्लुक… तोड़ लिया हमने,
अब सुकून उनको नहीं,
और बेकरार… हम भी हैं।

love yaad shayari image


yaad shayari hindi

ham vo nahee jo matalab se yaad karate hai,
ham vo hai jo rishton se pyaar karate hai,
aapaka paigaam aaye ya na aaye,
ham roj aapako dil se yaad karate hai.
हम वो नही जो मतलब से याद करते है,
हम वो है जो रिश्तों से प्यार करते है,
आपका पैगाम आये या ना आये,
हम रोज आपको दिल से याद करते है।

milate rahie,
haal – chaal poochhate rahie,
na jaane kab koee,
ek yaad ban kar rah jaen.
मिलते रहिए,
हाल – चाल पूछते रहिए,
ना जाने कब कोई,
एक याद बन कर रह जाएँ।

yaad shayari for gf image


usakee yaad aaee hai,
saanson zara aahista chalo,
dhadakanon se bhee,
ibaadat mein khalal padata hai.
उसकी याद आई है,
साँसों ज़रा आहिस्ता चलो,
धड़कनों से भी,
इबाताद में खलल पड़ता है।

yaad shayari in hindi

aapake alaava in lavon par,
koee baat nahin hotee,
hamen aapakee yaad na aaye,
aisee koee raat nahin hotee.
आपके अलावा इन लवों पर,
कोई बात नहीं होती,
हमें आपकी याद ना आये,
ऐसी कोई रात नहीं होती।

yaad aana shayari image


kabhee kabhee kisee apane,
kee itanee yaad aatee hai,
kee rone ke lie raat bhee,
kam pad jaatee hai.
कभी कभी किसी अपने,
की इतनी याद आती है,
की रोने के लिए रात भी,
कम पड़ जाती है।

ab hichakiya aatee hai,
to paanee pee lete hai,
ye vaham chhod diya hai,
ki koee yaad karata hai.
अब हिचकिया आती है,
तो पानी पी लेते है,
ये वहम छोड़ दिया है,
कि कोई याद करता है।

yaad shayari status image


2 line shayari on yaad

neend aatee nahin vo bhee aate nahin,
raatabhar karavaten main badalata raha.
नींद आती नहीं वो भी आते नहीं,
रातभर करवटें मैं बदलता रहा।

ham baithe the sitaaron kee panaah mein,
chaand ko dekha toh aapakee yaad aa gayee.
हम बैठे थे सितारों की पनाह में,
चाँद को देखा तोह आपकी याद आ गयी।

yaad shayari dp image


be – kasoor koee nahin is zamaane mein,
bas sab ke gunaah ujaagar nahin hote.
बे – कसूर कोई नहीं इस ज़माने में,
बस सब के गुनाह उजागर नहीं होते।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *